Visitor's Counter

Wednesday, February 28, 2018


जय श्री माताजी 
होली की हार्दिक शुभ कामनाएं 
"हमेशा श्रीकृष्ण के आशीर्वाद से आप सभी को होली का आनंद लेना चाहिए लेकिन सबसे बड़ी होली अपने भीतर होती है जब आप अपने आप को सभी प्रकार के रंगों से भरते हैं। आपकी प्रकृति ऐसा होनी चाहिए कि सभी को आपके अंदर के उस रंग के आलोकिक आनंद की अनुभूति मिलनी चाहिए। वह रंग जो आपके भीतर है, सुंदरता का रंग – जो कृत्रिम नहीं है, दिखावा नहीं है, बस निर्वाज्य प्रेम देने वाला है। " – परम पूज्य श्री माताजी, 17-03-1984, होली पूजा, दिल्ली। 

प्रिय सहज योगी भाइयों और बहनों, कृपया शुक्रवार, 2 मार्च 2018 को ऑनलाइन ध्यान कार्यक्रम में सम्मिलित हों, सायंकाल 5 बजे से 8 बजे (भारतीय समय), वेबसाइट: https://atyourlotusfeetmother.blogspot.in/ 

श्री कृष्ण के होली के त्यौहार के उत्सव के शुभ अवसर पर आईये हम सब एक साथ ध्यान के ऑनलाइन कार्यक्रम में परम पूज्य श्री माताजी से प्रार्थना करें कि हमारे हृदय में उनके असीम प्रेम के रंगों से परिपूर्ण गंगा की धारा निरंतर बहे व उसका माधुर्य हम सभी को आत्मिक आनंद से पुलकित कर दे।

Jai Shri Mataji 
Happy Holi 

“Always with Shri Krishna's blessings you all should enjoy your Holi. But the greatest Holi is within yourself when you fill yourself with all kinds of colours. Your nature should be such that everybody should enjoy that colour. That colour that is within you, colour of beauty - not artificial, just showing of, just giving something without any love.” -- H.H.Shri Mataji, 17-03-1984, Talk on Holi day, Delhi, India. 

Dear Sahaja Yogi brothers and sisters of the whole world, 
Please do join online meditation on Friday, 2nd March 2018 , 5 pm to 8 pm (India Time), website : https://atyourlotusfeetmother.blogspot.in/ . To know corresponding time of your country/ city, please click on below link- https://timeanddate.com/s/3fn4 

On the auspicious occasion of celebration of Shri Krishna’s festival of Holi let us meditate together and pray to Param Pujya Shri Mataji to open up in our hearts, fountain of colours of HER Love and fragrance pulsating with Bliss of joy.